उमा भारती ने की कन्हैया कुमार और हार्दिक पटेल की तारीफ़, साथ ही दी सलाह..

भोपाल: केंद्रीय जल संसाधन मंत्री और बीजेपी नेता उमा भारती ने गुजरात में चल रही राजनीति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुके हार्दिक पटेल की तारीफ करते हुए उन्हें एक अच्छा ‘लड़ाका लड़का’ करार दिया है। लेकिन उन्होंने हार्दिक को इस चुनावी राजनीति से बचने की सलाह भी दी।
भोपाल पहुंची उमा भारती ने अपने निवास में पत्रकारों से बातचीत की। उन्होंने हार्दिक के साथ सीपीआई नेता कन्हैया कुमार के बारे में भी बात की। उन्होंने कहा कि वे प्रधानमंत्री मोदी के विरोध में बोलकर टीआरपी हासिल करने की कोशिश कर रहे है। लेकिन अपनी जमीन तैयार नहीं कर पा रहे हैं।

उमा भारती ने कहा कि हार्दिक पटेल और कन्हैया कुमार को वह काफी वक़्त से मॉनिटर कर रही है।  एक अच्छे लड़ाके लड़के हैं, लेकिन वे अभी जितना नॉन पॉलिटिकल रहेंगे, उतनी ही उनकी ताकत बढ़ेगी। लेकिन उन्हें प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ टिप्पणियां नहीं करनी चाहिए।
क्यूंकि प्रधानमंत्री मोदी गुजरात का गौरव हैं। गुजरात में होने वाले विधानसभा चुनाव में बीजेपी के ही जीतने के बारे में बोलते हुए उन्होंने कहा कि हार्दिक राजनीति में अभी मोदी का मुकाबला नहीं कर सकते।

क्यूंकि जब दूसरे प्रदेश से होने के बावजूद उत्तर प्रदेश के लोगों ने मोदी का पूरा साथ दिया और इतनी शानदार जीत दी, तो गुजरात में तो वह पूरे प्रचंड बहुमत से जीतेंगे।  हार्दिक को अभी अपनी पाटीदार आरक्षण की लड़ाई जारी रखनी चाहिए।

गौरतलब है कि गुजरात में पाटीदार समुदाय के आरक्षण आंदोलन से चर्चा में आए हार्दिक पटेल अब गुजरात विधानसभा के चुनावों में भी ऐक्टिव हैं। कांग्रेस हार्दिक को पार्टी में शामिल करने के लिए तमाम कोशिशें कर रही है। कांग्रेस के सामने हार्दिक पटेल ने कुछ शर्ते रखी हैं। अगर कांग्रेस उसे मान लेती है तो इस विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को समर्थन देंगे।

वहीँ ओबीसी समुदाय के युवा नेता अल्पेश ठाकोर ने कांग्रेस से हाथ मिला लिया है। बीजेपी सरकार के विरोधी माने जाने वाले हार्दिक के हाल ही में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की खबरें आई थी। इसके अलावा युवा दलित नेता जिग्नेश मेवानी ने कांग्रेस को दलित समुदाय के मुद्दों पर अपना पक्ष साफ करने के लिए कहा है। ताकि वे कांग्रेस को समर्थन देने के मामले में अपनी राय बना सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.