भाजपा को उपचुनाव नतीजों से भी बड़ा झटका इस बात से लगा है…

March 15, 2018 by No Comments

उत्तर प्रदेश में लोकसभा के उपचुनाव हुए। महज़ दो सीटों के लिए हुए उपचुनाव से भले ही सरकार बनने बिगड़ने की कोई बात ना हो लेकिन राजनीतिक समीकरण बदल गए हैं। भाजपा को फूलपुर और गोरखपुर में हार मिली है और सपा से मिली ये हर किसी सदमे से कम नहीं है लेकिन इससे भी बड़ा झटका भाजपा को एक और बात से लगा है।

सपा और बसपा के एक साथ गठबंधन बनाने की फुटकर ख़बरों से भाजपा में हताशा है। भाजपा नेता मानते हैं कि सपा और बसपा अगर एक हो जाते हैं तो फिर भाजपा के लिए 2019 के लोकसभा चुनाव बहुत मुश्किल हो जाएंगे। चुनाव नतीजों के आ जाने के बाद भाजपा को सबसे बड़ा झटका जिस ख़बर से लगा वो ये थी कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बसपा प्रमुख मायावती से उनके आवास पर जाकर मुलाक़ात की।

इस बात का महत्व इसी बात से समझा जा सकता है कि बसपा और सपा के शीर्ष नेताओं की ये 25 साल में पहली मुलाक़ात है। “गेस्ट हाउस” कांड के बाद से ही बसपा और सपा में झगड़े का दौर रहा है। ऐसा माना जाता रहा है कि बसपा प्रमुख “गेस्ट हाउस” कांड को व्यक्तिगत हमला मानती रही हैं लेकिन अब शायद कड़वाहट कम होती गयी है। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बसपा से गठबंधन करने की पहले भी कोशिश की थी और अभी भी वो ऐसी कोशिश कर रहे हैं।

पिछले कुछ दिनों में बसपा प्रमुख मायावती ने भी सपा के प्रति नर्म रवैया दिखाया है और गोरखपुर और फूलपुर में सपा को अप्रत्यक्ष समर्थन देकर बहन जी ने गठबंधन की ओर क़दम बढ़ा दिया है। कल जिस तरह से अखिलेश ने मायावती के घर जाकर उनसे मुलाक़ात की, उससे ये साफ़ हो गया है कि दोनों नेताओं में बातचीत चल रही है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *