भड़काऊ भाषण देने के मामले में वरुण गांधी के लिए बुरी ख़बर

प्रयागराज: हिंदूवादी छवि वाले भाजपा सांसद वरुण गांधी की मुश्किलें एक बार फिर से बढ़ गई हैं। भड़काऊ भाषण देने के मामले में दोष मुक्त होने के बाद एक बार फिर से वही मामला एमपी-एमएलए स्पेशल कोर्ट में सुनवाई के लिए पहुंच गया है। बता दें कि वरुण गांधी की ओर से भड़काऊ भाषण देने का मुकदमा पीलीभीत स्थानांतरित करने की अर्जी स्पेशलकोर्ट एमपीएमएलए ने खारिज कर दी है।

कोर्ट ने वरुण गांधी को व्यक्तिगत रूप से हाजिर होने का निर्देश दिया है। बुधवार को वरुण गांधी के खिलाफ सरकार द्वारा दाखिल फौजदारी अपील की सुनवाई स्पेशल कोर्ट(एमपी एमएलए) के जज पवन कुमार तिवारी ने की। बता दें कि वरुण गांधी ने अर्जी में कहा था कि विशेष न्यायालय परीक्षण न्यायालय है। परीक्षण के उपरान्त दोष मुक्ति के निर्णय के खिलाफ राज्य उत्तर प्रदेश की अपील की सुनवाई का क्षेत्राधिकार इस न्यायालय को प्राप्त नहीं है।

दरअसल उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में 2007 चुनाव के दौरान भड़काऊ भाषण देने पर वरुण गांधी के विरुद्ध बरखेड़ा थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था। वरुण गांधी पर जन भावनाओं को भड़काने और माहौल खराब करने का आरोप था। इस मामले में पुलिस ने फाइनल रिपोर्ट दाखिल की और कोर्ट में ट्रायल के बाद 27 फरवरी 2013 को सीजेएम कोर्ट ने वरुण गांधी को दोषमुक्त कर दिया था। हालांकि तत्कालीन राज्य सरकार द्वारा दोष मुक्त किए जाने के आदेश के खिलाफ यह अपील की गई थी जो एक बार फिर चर्चा में चल रही है। यह मामला अब ट्रांसफर होकर इलाहाबाद स्थित स्पेशल कोर्ट में पहुंच चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.