मानवेन्द्र की उम्मीदवारी से चौंकी वसुंधरा राजे, ‘ये किस तरह का कार्ड खेल रहे हैं’

November 18, 2018 by No Comments

जयपुर: राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने आज 32 उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट जारी की ,पार्टी ने अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में मंत्री रहे जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र सिंह को झालरापाटन से उम्मीदवार बनाया है. इस सीट से मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे उम्मीदवार हैं. उन्होंने मानवेंद्र के नाम के एलान से ठीक पहले आज ही नामांकन दाख़िल किया है. राजस्थान में बीजेपी को मात देकर सत्ता में वापसी के लिए कांग्रेस ने सारे दांव चल दिए हैं. मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया को उनके घर में ही घेरने के लिए कांग्रेस ने सबसे बड़ा दांव चला है।

राजस्थान में इस बार के विधानसभा चुनाव में अपनी सत्ता बचाने के लिए मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे हर जतन कर रही हैं। ऐसे में मानवेंद्र सिंह यहां से उन्हें कड़ी टक्कर दे सकते हैं। ताबड़तोड़ रैलियों के बीच शनिवार को वसुंधरा ने राड़ी के बालाजी मंदिर में दर्शन करने के बाद नामांकन दाखिल किया। वहीं, वसुंधरा राजे ने मानवेन्‍द्र सिंह का मजाक उड़ाते हुए कहा, ‘मैं तो सोच रही थी कि वे कोई धार्मिक कार्ड या जातिगत कार्ड खेलेंगे. लेकिन अब मुझे हैरानी है कि वे किस तरह का कार्ड खेल रहे हैं.’बता दें कि वसुंधरा राजे जब पहली बार 2003 में राजस्थान की मुख्यमंत्री बनी थीं तो उस वक्त जसवंत सिंह ने उनकी काफी मदद की थी. यही नहीं जसवंत सिंह ने बीजेपी की राज्य इकाई को बढ़ाने में भी काफी मदद की थी. लेकिन 2014 में उन्होंने बीजेपी छोड़ दी थी।

बीजेपी का दामन छोड़ने वाले शिव सीट से विधायक मानवेंद्र सिंह पूर्व में बाड़मेर-जैसलमेर लोकसभा क्षेत्र से सांसद रह चुके हैं. 2004 के लोकसभा चुनाव में मानवेंद्र सिंह के नाम सबसे ज्यादा मतों से जीतने का रिकॉर्ड है. सिंह ने उस समय 2,72000 से भी अधिक मतों से जीत दर्ज की थी.कांग्रेस ने दो दिन पहले गुरुवार को राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए 152 प्रत्याशियों की अपनी पहली लिस्ट जारी की थी। इस लिस्ट में मानवेंद्र सिंह का नाम नहीं था, जिसके कई कयास लगाए जा रहे थे। हालांकि दूसरी लिस्ट आने पर साफ हो गया कि मानवेंद्र सिंह को एक विशेष रणनीति के तहत सीएम वसुंधरा के खिलाफ उतारा गया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *