वसुंधरा राज में “गौरक्षकों” का आतंक; विपक्ष ने उमर ख़ान की हत्या पर सरकार को घेरा

जयपुर: देशभर में लगातार बढ़ रही मोब लिंचिंग को लेकर विपक्षी दलों ने और सामाजिक संघठनों ने चिंता जताई है. 35 वर्षीय उमर ख़ान की कथित गौ-रक्षकों द्वारा की गयी हत्या पर विपक्ष ने राजस्थान सरकार को घेरा है. इस सम्बन्ध में एक नाबालिग़ लड़के को पकड़ा गया है और पुलिस उससे पूछताछ कर रही है.इस पूरे मामले में वसुंधरा राजे की सरकार सवालों के घेरे में है.

उमर ख़ान के हत्यारों को पकड़ने और उमर के परिजनों को मुआवज़ा देने की अपील राज्य सरकार से की जा रही है. इस मामले में कांग्रेस ने बयान दिया है. राजस्थान के कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने इस मामले में कहा कि ये बहुत डरावना है कि मोब लिंचिंग राजस्थान में आम होती जा रहा है. उन्होंने कहा कि वो सरकार की प्रतिक्रिया से दुखी हैं. पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी कहा कि इस मामले की निष्पक्ष जांच होना चाहिए. उन्होंने घटना की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि एक तरफ़ जहां सरकार इन घटनाओं को रोकने में नाकाम है वहीँ दूसरी ओर गृहमंत्री ग़ैर-जिम्मेदाराना बयान दे रहे हैं.

आल इंडिया मजलिस इ इत्तिहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदउद्दीन ओवैसी ने भी इस मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की है. उन्होंने घटना की निंदा की है.

जयपुर के सामाजिक संघठन पीपुल्स यूनियन फार सिविल लिबर्टीज ने उमर के परिवार को 25 लाख का मुआवज़ा दिए जाने की मांग की है और ज़मीन तथा एक आश्रित को सरकारी नौकरी भी दी जाए, ऐसी मांग की है. देश भर के सामाजिक संघठनों ने इस मामले में भाजपा सरकार की निंदा की है. इस मामले में लोग सरकार के रवैये से नाख़ुश नज़र आ रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.