ऑस्ट्रेलिया से राजस्थान में चुनाव लड़ने आये थे वाजिब अली, जनता ने बनाया विधायक

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश में यूँ तो कांग्रेस और भाजपा के बीच काँटे की लड़ाई है. पूरे दिन ऐसा माहौल रहा कि कभी कांग्रेस तो कभी भाजपा आगे रहे. इस समय कांग्रेस 114 सीटें जीतने की स्थिति में है जबकि भाजपा 109 सीटों पर जीतने की स्थिति हैं. पर हम बात करने जा रहे हैं राजस्थान की और एक बसपा के विधायक की. भरतपुर की नगर विधानसभा से बसपा प्रत्याशी वाजिब अली ने जीत दर्ज की. वो चुनाव लड़ने के लिए ऑस्ट्रेलिया से आये थे.

वाजिब अली की जीत से समर्थकों में भारी उत्साह है. वहीं कांग्रेस को पूर्ण बहुमत से कुछ क़दम दूर रह जाने की वजह से बसपा की स्थिति महतवपूर्ण हो गयी है. ऐसे में वाजिब अली मुमकिन है कि मुख्यमंत्री भी बन जाएँ. वाजिब अली तालीमी मैदान में काम करते हैं,वो ऑस्ट्रेलिया में 18 कॉलेज चलाते हैं,लेकिन वो चाहते हैं कि मेवात के क्षेत्र में तालीमी बेदारी ये,जागरूकता आये,और पिछड़ापन दूर हो इस कारण से वो राजनीति में उतरे हैं,उन्होंने शिक्षा की क्रांति लाने के लिये सियासी रास्ता चुना है।

वाजिब अली के सामने भारतीय जनता पार्टी से अनीता सिंह और काँग्रेस से मुरारीलाल तथा समाजवादी पार्टी की तरफ से नीम सिंह ने चुनाव लड़ा है,समाचार लिखे जाने तक वाजिब अली को 62644 तथा समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी 37177 वोट मिले हैं,अनीता सिंह को 34946 वोट मिले हैं। वाजिब अली को भरतपुर की जनता की तरफ से मिले आशीवार्द और वोट से वो और उनके समर्थक बहुत खुश हैं.

वाजिब अली के करीबी डॉक्टर यूनुस खान का कहना है कि वाजिब अली पर जिस प्रकार से जनता ने भरोसा जताया है उस पर वो पूरा उतरेंगे।डॉक्टर यूनुस ने नगर विधानसभा के तमाम मतदाताओं का वाजिब अली को प्रेम और आशीर्वाद देने पर शुक्रिया अदा करते हुए कहा है कि वाजिब अली से लोगों को अच्छी उम्मीदें हैं उस कसौटी पर खरा उतरेंगे।आपको बता दें कि राजस्थान में कुल 7 मुस्लिम उम्मीदवारों ने जीत हासिल की है. इसमें से 6 उम्मीदवार कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे थे जबकि एक सीट बसपा के हाथ लगी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.