जब अमरीकी राष्ट्रपति ने ताजमहल की तारीफ़ में ये कहा-“दुनिया में दो तरह के लोग हैं एक वो जिन्होंने ताज देखा है और एक वो जिन्होंने नहीं देखा है…”

आगरा के मशहूर ताजमहल को लेकर भले ही कुछ लोग अपनी राजनीतिक रोटियाँ सेंकने की कोशिश में हैं लेकिन इसका सम्मान दुनिया भर में किया जाता रहा है. इसी सिलसिले में हम ताजमहल के बारे में एक ऐसे वैश्विक नेता का कथन साझा कर रहे हैं जिनका दुनिया भर में सम्मान रहा है.

सबसे पहला बयान अमरीका के पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन का है. क्लिंटन ने मुहब्बत की इस इमारत के बारे में कहा था कि दुनिया में दो क़िस्म के लोग हैं, एक वो जिन्होंने ताजमहल देखा और इससे प्यार करते हैं ..और दूसरे वो जिन्होंने ताजमहल नहीं देखा है और इससे प्यार करते हैं.

क्लिंटन ने बाद में अपनी पुस्तक “माय लाइफ़” में कहा कि ताज आश्चर्यजनक था और उन्हें इसको छोड़ते हुए नफ़रत हुई. क्लिंटन ने इस इमारत को दुनिया की सबसे ख़ूबसूरत इमारत कहा था.

ऐसा नहीं है कि सिर्फ़ क्लिंटन ही ऐसे इंसान हैं, लगभग सभी लोग जिन्होंने ताजमहल को देखा है जाना है वो ताजमहल से प्यार करते हैं. कुछ लोग ऐसे ज़रूर हैं जिन्हने ताजमहल से भी नफ़रत है. उसका एक कारण तो ये भी है कि ये मुहब्बत की निशानी है और एक ये भी कि ये मुस्लिम शासक ने बनवाया था. अजीब ओ ग़रीब लोग हैं ये एक तरफ़ तो राष्ट्रवादी होने का झूठा नाटक भी करते हैं और दूसरी और राष्ट्र की सभ्यता के प्रतीकचिन्ह को नकारते भी हैं. सिर्फ़ इतना ही नहीं ताजमहल एक ऐसा टूरिस्ट स्पॉट है जिसकी वजह से प्रत्यक्ष कमाई तो होती ही है, अप्रत्यक्ष तौर पर होटल कारोबार जैसे कई कारोबार हैं जो ताजमहल से फ़ायदा कमाते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.