बसपा की ख़बरों को क्यूँ ग़ायब करती है मेन-स्ट्रीम मीडिया?

November 25, 2017 by No Comments

बहुजन समाज पार्टी 2014 के लोकसभा चुनाव में अच्छा प्रदर्शन नहीं किया और उसके बाद 2017 के विधानसभा चुनाव में भी बसपा को बुरी तरह से शिकस्त मिली. हालाँकि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की हार को बसपा ने EVM गड़बड़ी बताया. चुनाव में हार-जीत तो लगी रहती है लेकिन जिस तरह से मेन-स्ट्रीम मीडिया बसपा को इगनोर कर रहा है उससे ऐसा लगता है कि ये सब जानबूझ कर किया जा रहा है.

देश की सात राष्ट्रीय पार्टियों में से एक पार्टी के नेता का बयान बड़ी-बड़ी न्यूज़ वेबसाइट से ग़ायब रहता है. बसपा के सूत्रों के मुताबिक़ ऐसा जानबूझकर किया जाता है ताकि बसपा की बात लोगों तक ना पहुँच सके. उत्तर प्रदेश में हो रहे निकाय चुनाव में बसपा मज़बूती से चुनाव लड़ रही है लेकिन इसकी ख़बरें मेन स्ट्रीम मीडिया से नदारद हैं. मीडिया जिस पार्टी को सबसे ज़्यादा ख़बरों में लाता है वो भाजपा है. भाजपा की छोटी से छोटी बात भी मीडिया में आ जाती है जबकि कई महत्वपूर्ण ख़बरें मीडिया में आने से रह जाती हैं. इतना ही नहीं पद्मावती फ़िल्म को लेकर जो विवाद शुरू हुआ है वो भी मीडिया की ही देन है.जानकारों के मुताबिक़ ये मुद्दे इसीलिए उठाये जा रहे हैं कि असली मुद्दे ग़ायब हो जाएँ. बसपा समर्थक कहते हैं कि बड़े स्तर पर मीडिया में दलित और अल्पसंख्यक विरोधी लोग घुसे हुए हैं और बसपा इस समाज के मुद्दे उठाती है इसलिए ये उसे मीडिया में नहीं आने देते.

हालाँकि इसकी एक और वजह लोग ये बताते हैं कि बसपा सोशल मीडिया पर दूसरी पार्टियों की तुलना में कम एक्टिव है. बसपा प्रमुख का सोशल मीडिया पर अकाउंट ना होना भी इसके पीछे एक वजह है. पार्टी का ख़ुद का कोई सोशल मीडिया अकाउंट नहीं है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *