किन्नर व्यक्ति को टिकट देने पर सपा के फ़ैसले की लोगों ने की सराहना

समाजवादी पार्टी ने कल अपनी मेयर प्रत्याशियों की पहली लिस्ट जारी कर दी है. 7 सीटों के लिए जारी की गयी उमीदवारों की लिस्ट में सबसे ख़ास बात ये है कि इसमें एक किन्नर समाज के व्यक्ति को भी टिकट दिया गया है. पार्टी ने अयोध्या से किन्नर गुलशन बिंदु को प्रत्याशी बनाया है. समाजवादी पार्टी के इस फ़ैसले पर आम ओ ख़ास सभी अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं. इसी सिलसिले में हमने भी लोगों से ये जानने की कोशिश की कि वो सपा के इस फ़ैसले को किस तरह देखते हैं. हमने उत्तर प्रदेश के अलावा देश के दूसरे हिस्सों से भी उनकी राय लेने की कोशिश की है.

इस बारे में अपनी राय रखते हुए लखनऊ के रहने वाले सौरभ सिंह कहते हैं कि ये अच्छा क़दम है.. वो भी देश के नागरिक है और इस तरह का क़दम दूसरी पार्टियों को भी उठाना चाहिए.

ग़ाज़ियाबाद के रहने वाले मुहम्मद ज़ाकिर रियाज़ अपनी राय रखते हुए कहते हैं, “यह एक बेहतरीन पहल है। एक समुदाय जिसको सिर्फ उसकी लैंगिकता की बुनियाद पर दशकों से हाशिये पर रखा गया है उसको मुख्यधारा से जोड़ने के लिए कदम उठाने की तरफ समाजवादी पार्टी की यह पहल वाक़ई बेहतरीन है। दूसरी पार्टियों को भी चाहिए कि वे हाशिये पर मौजूद किन्नर समाज के लिए ऐसे कदम उठाएं।”

लखनऊ विश्विद्यालय में छात्र वैभव मिश्रा इसे अच्छा क़दम मानते हैं. उनके मुताबिक़ लैंगिक समानता के लिए ये सराहनीय क़दम है.अंकुर कुमार पाण्डेय कहते हैं,”हमारे समाज में किन्नरों को अलग दृष्टि से देखा जाता है.. उनको भी प्लेटफार्म मिलना चाहिए क्यूंकि जब तक उन्हें प्लेटफार्म नहीं मिलेगा वो अपने को मुख्य धरा से कटा हुआ महसूस करेंगे.

“अमोल सरोज स्टेटस वाला” किताब के लेखक अमोल सरोज कहते हैं मैं समाजवादी पार्टी के इस निर्णय का समर्थन करता हूँ और समाजवादी पार्टी से उम्मीद करता हूँ कि वो किन्नरों के हित के लिये समाज मे उनके लिये समान अवसर पैदा करने के लिये प्रयास करेगी । किन्नरों को समाज मे हर जगह उनका हक मिलना चाहिए । बाकी पार्टियों और भारत की जनता को भी दिल से इस तरफ प्रयास करना चाहिए.

प्रवीन दहिया कहते हैं,”कुछ भी नहीं कहेंगे, इसे एक सामान्य घटना की तरह देखा जाना चाहिए।प्रत्याशी योग्य व्यक्ति को बनाना चाहिए, ये नहीं देखा जाना चाहिए कि प्रत्याशी किस लिंग, जाति, धर्म इत्यादि से सम्बँध रखता है। अगर कोई किन्नर इस योग्य है, तो अवश्य बनाया जाना चाहिए।”

पेशे से वकील प्योली स्वातिजा इस मामले में अपना पक्ष रखते हुए कहती हैं कि महत्वपूर्ण बात यह है कि समाजवादी पार्टी के पास किन्नरों के मानवाधिकरों की रक्षा के लिए और उन्हें बराबराना हक़ दिलाने के लिए क्या नीति और कार्यक्रम हैं?

इस मुद्दे पर अपनी राय रखते हुए आम आदमी पार्टी के नेता दुर्गेश कुमार चौधरी कहते हैं कि समाजवादी पार्टी का कदम सामाजिक रूप से काफी सरहनीय है, पर राजनैतिक सोच तो कार्यों द्वारा ही पता चलेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.