देश का हर नागरिक जो लोकतंत्र में विश्वास रखता है, इसे बचाने के लिए आवाज़ उठाए..

January 13, 2018 by No Comments

नई दिल्ली: बीजेपी के सीनियर लीडर यशवंत सिन्हा ने चारों जजों के फैसले पर अपना पक्ष रखा है। बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा के बयान से विपरीत उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के चार जजों की शिकायत को न्यायपालिका का आंतरिक मसला मानने से इंकार हुए हुए मंत्रियों से अपील की है कि वे वरिष्ठ जजों को समर्थन दें। उन्होंने कहा कि अगर चार सीनियर जज जनता के सामने आ गए, तो यह सुप्रीम कोर्ट का आंतरिक मसला रहा कहां? यह एक गंभीर मामला है।

केंद्र में सत्तारूढ़ मोदी सरकार की नीतियों और पार्टी के स्टैंड पर यशवंत सिन्हा के वैचारिक मतभेद रहे हैं जिन्हे वह कई मुद्दों पर जाहिर कर चुके हैं। यशवंत सिन्हा ने कहा है कि सीजेआई दीपक मिश्रा के खिलाफ सार्वजनिक तौर पर आवाज उठाने वाले जजों के साथ खड़े हैं।
शनिवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में यशवंत सिन्हा ने दावा किया कि बीजेपी नेता डरे हुए हैं और इसलिए वे उनका समर्थन नहीं कर रहे हैं।

सिन्हा ने अपनी पार्टी के सदस्यों और मंत्रियों से सुप्रीम कोर्ट के जजों की तरह अपने डर से छुटकारा पाने’ और ‘लोकतंत्र के लिए आगे आकर बोलने को कहा है। जिन्हें भी देश और लोकतंत्र के भविष्य की चिंता है, उन्हें गलत चीजों के खिलाफ आवाज़ उठानी चाहिए। सरकार के डर की वजह से बोल नहीं रहे हैं।

उन्होंने कहा कि मैं यह नहीं कहता कि सरकार को सुप्रीम कोर्ट से आगे जाकर कोई एक्शन लेना चाहिए। बल्कि मैं यह कहना चाहता हूं कि सरकार को लोकतंत्र की रक्षा में अपनी भूमिका का पालन गंभीरता से करना चाहिए।

देश में 1975 जैसे इमरजेंसी के हालात न बनें, इसके लिए संसद सत्र बुराकर चर्चा की जानी चाहिए। अगर संसद को लगता है कि सुप्रीम कोर्ट में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है तो लोकतंत्र खतरे में है। उन्होंने कहा कि देश का हर नागरिक जो लोकतंत्र में विश्वास रखता है, उसे खुलकर बोलना चाहिए।

[get_Network_Id]

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *