किसान विरोधी योगी सरकार उन्हें बेइज़्ज़त करने के लिए 1-1 रूपये के चेक बाँटती है: NCP

October 6, 2018 by No Comments

महाराजगंज। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. रमेश दीक्षित आज अपने प्रदेशव्यापी दौरे में पूर्वांचल स्थित महाराजगंज जिले पहुंचे । प्रदेश अध्यक्ष डॉ. रमेश दीक्षित योगी के जिले गोरखपुर से कुछ दूर स्थित महाराजगंज में सबसे पहले राकांपा के कार्यकर्ताओं के सम्मलेन को संबोधित किया । डॉ. रमेश दीक्षित नें कार्यकर्ता सम्मलेन को संबोधित करते हुए कहा कि देश और प्रदेश दोनों जगह पर भाजपा की सरकार है । सूबे में योगी की सरकार काबिज होने के बाद से प्रदेश में लॉ एंड आर्डर की स्थिति बद से बदतर हो गए है । पूरे सूबे में जंगलराज कायम है । हत्याएं , डकैती , बलात्कार आम बात है ।

प्रदेश में सत्ता के संरक्षण के चलते गुंडों ने आमजन का जीना दुश्वार कर दिया है । वसूली के चलते मनबढ़ पुलिसकर्मी प्रदेश की राजधानी में आम नागरिको को माथे पर गोली मार कर राजधानी को दहला रहे है । इतनी बड़ी घटना के बाद भी योगी सरकार ने एक भी जिम्मेदार ओहदेदार को निलंबित नहीं किया । जिससे अपराधियों सहित मनबढ़ पुलिसकर्मियों के हौंसले बुलंद है ।राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी-राकापा के अध्यक्ष डॉ. रमेश दीक्षित ने महाराजगंज के पडोसी जिले देवरिया में बिहार के मुजफ्फरपुर की तर्ज पर जिला मुख्यालय स्थित नारी संरक्षण गृह में जिस्म फरोशी का धंधा चलाने का मामला पर भी अभी तक जाँच में कुछ नहीं निकल के आया । न सिर्फ देवरिया बल्कि राजधानी लखनऊ सहित कई जिले में ऐसे संरक्षण गृहो में तमाम अनियामितिताये देखने को मिली है पर सर्कार की तरफ से कोई ठोस कदम अभी तक नहीं उठाया गया है ।

डॉ. रमेश दीक्षित ने पूरे मामले में कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए इससे शर्मनाक करार दिया और कहा कि प्रदेश में “ बेटी पढाओ, बेटी बचाओ “ अभियाल चलाने वाली भाजपा शासित राज्यों में बेटियों और महिलाओं पर हिंसा , बलात्कार जैसे मामलो में बढ़ोतरी हुयी है । डॉ. दीक्षित ने इस घिनौने कांड पर कड़ा प्रहार करते हुए कहा कि इस घिनौना काण्ड यह साबित करता है कि बीजेपी शासित राज्यों में सबसे ज्यादा आराजकता है व महिलाओं और बेटियां सबसे ज्यादा आसुरक्षित है व दुर्दशा के हाल में है । यह उत्तर प्रदेश ही नहीं पूरे देश के लिए चिंता का विषय है । प्रदेश अध्यक्ष डॉ. रमेश दीक्षित ने कहा कि पूर्वांचल का यह हिस्सा जिसमें तराई का भी एक बड़ा भाग है जापानी इन्स्सेफालाईटिस सहित तमाम मच्छर जनित बीमारियों के चलते हर साल आसपास के जिले में हजारो बच्चे अज्ञात बुखार से काल के मुंह में समा जाते है । पर सरकार ने अभी भी इसकी रोकथाम के लिए कोई प्रभावी उन्मूलन ठोस कार्यक्रम नहीं चलाया है , इन जिले के अस्पताल और दूर दराज के पीएससी , सीएचसी धनभाव , दवाओ सहित डाक्टरों के कमी के चलते आम आदमी आसानी से इनकी चपेट में आ जाता है ।

गोरखपुर में ऑक्सीजन के कमी के चलते बच्चो की मौतों के बाद भी इन जिलो में कोई भी प्रभावी कार्यवाही नहीं की गयी है । आम आदमी को इन अस्पतालों से कोई भी स्वास्थ्य सुविधा नहीं मिल रही है । उन्होंने कहा कि पिछले दिनों महाराजगंज जिले के सदर विकास खंड के प्राथमिक विद्यालय रमपुरवा के छात्रों को सोमवार को आयरन की गोली दी गई, जिसे खाने के बाद 24 बच्चों की तबियत खराब हो गई. सभी बच्चों को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया. सदर विकास खंड के प्राथमिक विद्यालय रमपुरवा में बच्चों को मिल डे मील के बाद शिक्षकों ने आयरन की गोली दी, जिसे खाते ही 24 बच्चों की तबीयत बिगड़ गई और उन्हें उल्टी-दस्त शुरू हो गए.

प्रदेश अध्यक्ष ने इसके बाद एक प्रेस कांफ्रेंस को भी संबोधित किया । पत्रकारों से मुखातिब होते हुए डॉ. रमेश दीक्षित ने कहा कि महाराजगंज सहित आसपास के जिले गन्ना की पैदावार करते रहे है । राकांपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. रमेश दीक्षित आज प्रदेश व्यापी अभियान के अंतर्गत गन्ना किसानो की समस्याओ को लेकर महाराजगंज के गन्ना किसानो से मिले और उनकी समस्याओं को सुना । प्रेस से मुखातिब होते हुए डॉ. दीक्षित ने अनुपूरक बजट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव को दृष्टि में रखकर एक बार पुनः प्रदेश के किसानों को ठगने का षडयंत्र किया जा रहा है। किसानों के फसली ऋण माफ करने के शगूफे के साथ एक बार पुनः एक-एक और दो-दो रूपये के चेक बांटकर किसानों को बेइज्जत करने का इरादा है क्योंकि इस फसली ऋण का भुगतान लोकसभा चुनाव के बाद ही सम्भव होगा।

डा0 रमेश दीक्षित ने कहा कि वर्तमान सत्र का ही बकाया गन्ना मूल्य लगभग 11000 करोड रूपया है और अगले सत्र का गन्ना तैयार होने जा रहा है जिसका भुगतान भी गन्ना मिलों को करना होगा। प्रदेश सरकार ने गन्ना किसानों के लिए केवलं 5535करोड रूपये का प्राविधान किया है जो वर्तमान सत्र के बकाया राशि का आधा है। गन्ना किसानों की यह धनराशि मिल मालिको के पक्ष में आवंटित करके एक बार पुनः प्रदेश सरकार ने पूंजीपतियों के पक्ष में निर्णय लिया है। विगत सत्रों के बकाया गन्ना मूल्य के ब्याज का भुगतान मा0 उच्च न्यायालय और मा0 सर्वोच्च न्यायालय के आदेशो के बाद भी अब तक नहीं किया गया है जो कि न्यायालय आदेशो की अवहेलना है। वर्तमान सत्र के बकाया मूल्य पर भी 14 दिन बाद ब्याज देय हो जाता है परन्तु उसकी गणना का ही कुछ पता नहीं है। इस सरकार ने केवल किसानों को धोखा देने का कुचक्र चुनाव से पहले भी रचा था और अब लोकसभा चुनाव से पहले साजिश करने की तैयारी है।

प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष डॉ. रमेश दीक्षित ने कहा कि मौजूदा भाजपा सरकार हर मोर्चे पर फेल है , किसान तबाह है , बेरोजगार सड़क पर लाठी खा रहा है , महिलाओं की अस्मत दिन दहाड़े खतरे में है , मासूम अज्ञात बुखार की चपेट में आ कर काल की गर्त में समा रहे है । ऐसे में सभी गैर भाजपाई राजनैतिक दलों को एक साझा मंच पर आ कर भाजपा की आमआदमी विरोधी नीतियों का पर्दाफाश करते हुए हुनको हराने के काम करना होगा यही विपक्षी दलों की ऐतिहासिक ज़िम्मेदारी भी है । डॉ. दीक्षित ने कहा कमोबेश यही हाल सूबे के सारे आंचलो का है , फिगर थोडा ऊपर नीचे हो सकती है ।

उन्होंने नॉन भाजपा राजनैतिक दलों से आह्वाहन किया कि आज यह वक़्त का तकाजा है कि आमजन को मुक्ति दिलाने हेतु सभी को भाजपा के खिलाफ एक मजबूत लोकतान्त्रिक सेक्युलर आम आदमी परस्त विकल्प को प्रसुत करना होगा ताकि भाजपा के दावानल को आगामी लोकसभा के चुनावों में हराया जा सके ।

(राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी से प्राप्त प्रेस-विज्ञप्ति के आधार पर)

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *