हजरत मोहम्मद(स.अ.व्.) के जमाने का वाकिया, पढ़कर आपकी आँखों में आंसू आ जाएगे

अस्सलाम वालेकुम मेरे प्यारे भाइयों और बहनों बहुत सारे लोग कहते हैं कि इस्लाम तलवार के जोर पर फैला है इस्लाम जबरदस्ती लोगों को कुबूल करवाया गया और करवाया जा रहा है दोस्तों आज मैं आपको हमारे प्यारे नबी के जमाने का एक वाक्य बताने जा रहा हूं जिसको सुनकर आप की आंखों में आंसू आ जाएगा एक दफा आप रसूल अल्लाह मक्का के बाजार से गुजर रहे थे.
आपने देखा कि एक बूढ़ी औरत सामने दो थैला लेकर खड़ी हुई थी वह औरत इतनी बूढ़ी थी कि जब वह एक थैला उठाकर उठाती तो दूसरा थैला जमीन पर रखना पड़ता और जब दूसरा उठाती तो पहला जमीन पर देखना पड़ता वह बेचारी एक-एक करके थैला उठाती और आगे बढ़कर रख आती फिर पहला थैला उठाने आती इस तरह धीरे-धीरे वह आगे बढ़ती। बहुत सारे लोग उसको देख रहे थे उसने कई बार लोगों से मदद के लिए कहा भी लेकिन कोई भी उसकी मदद के लिए नहीं आया जब हमारे प्यारे नबी सामने से गुजरे तो आपने देखा और आप जल्दी से मदद के लिए आगे बढ़े और जाकर उस बूढ़ी औरत से कहा की अम्मा क्या मैं आपकी मदद कर सकता हूं.

youtube

तब उस बूढ़ी औरत ने कहा ठीक है एक थैला तुम उठा लो और एक थैैला मैं उठा लेती हूं तब आपने कहा कि आप रहने दीजिए मैं ही दोनों उठा लूंगा। आपने सामान उठाया और आगे आगे चलने लगे पीछे पीछे वह बूढ़ी औरत चलती जा रही थी और दुआ देती जा रही थी पूरे रास्ते उसमें आप सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम को दुआ दे कुछ दूर जाने पर बूढ़ी औरत ने पूछा बेटा क्या तेरे कंधे दर्द कर रहे हैं.
तब आपने कहा नहीं अम्मा मेरे कंधे तो दर्द नहीं कर रहे हैं लेकिन अगर आपके पैर दर्द कर रहे हैं तो आप बताइए मैं आपको भी उठा लूंगा कुछ दूर चल कर पूरी औरत ने कहा बेटा मेरा घर यहीं है आपने सामान नहीं रख दिया और मुड़कर जाने लगे बूढ़ी औरत ने कहा कि बेटा अपनी मेहनताना तो लेते जाओ तब आपने कहा कि मैंने आपको अम्मा कहा है तो आप से पैसे कैसे ले सकता हूं.
youtube

यह सुनकर उस औरत की आंखों से आंसू गिर पड़े और वह कहने लगी अगर पैसे नहीं लेना है तो मेरी एक बात सुनताजा मेरे बेटे मैं मक्का में बहुत साल से रह रही हूं मेरे बाल भी यही सफेद हुए हैं आजकल मक्का में एक मोहम्मद नाम का नौजवान घूम रहा है उससे बचकर रहना उस के जाल में कभी मत हटना वह एक ऐसा आदमी है जो कि मियां बीवी में भी फूट डाल देता है बच्चे और बाप यहां तक कि भाई भाई में भी फूट डाल देता है अरे बेटा मैं तो कहती हूं कि वह एक जादूगर या नजूमी है लोगो के दीवाना कहते हैं यह सब सुनकर प्यारे नबी की आंखों में आंसू आ गया.
फिर आपने कहा कि ठीक है अम्मा जैसा तुम कहती हो वैसा ही करूंगा बूढ़ी औरत ने पूछा बेटा तू रोता क्यों है तब आपने कहा कोई बात नहीं है अम्मा आपको जब भी मेरी जरूरत हो आप मुझे फिर याद कर लेना तब उस बूढ़ी औरत ने कहा नहीं बेटा तुझे वास्ता है तू पहले बता मुझे कि तू रो क्यों रहा था तब आप ने जवाब दिया कि मोहम्मद से आप मुझे दूर रहने के लिए कह रही हैं और यह मोहम्मद को आप जादूगर कह रहे हैं वह मोहम्मद मैं ही हूं तब उस औरत में रोते हुए हुए कहा कि अगर तू ही मोहम्मद है तो मैं अल्लाह से दुआ करुंगी कि अल्लाह पूरे मक्का वालों को मोहम्मद बना दे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.